US के साथ पुर्तगाल-नीदरलैंड्स भी जाएंगे मोदी, ट्रम्प से मुलाकात 26 को
By admin On 16 Jun, 2017 At 01:03 PM | Categorized As India | With 0 Comments

 

नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी 24 जून से 4 दिन की फॉरेन विजिट पर जा रहे हैं। पहले से तय अमेरिका दौरे के अलावा वो पुर्तगाल और नीदरलैंड्स भी जाएंगे। शुक्रवार को फॉरेन मिनिस्ट्री ने एक बयान में यह जानकारी दी। बता दें कि अमेरिका में मोदी डोनाल्ड ट्रम्प से भी मिलेंगे। ट्रम्प के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद उनकी यह मोदी से पहली मुलाकात होगी।

मोदी की फॉरेन विजिट 24 जून को शुरू होगी। इसी दिन वो पुर्तगाल पहुंचेंगे और यहां के टॉप लीडर्स से मुलाकात करेंगे।
इसके बाद 25 और 26 जून को पीएम अमेरिका में रहेंगे। 26 जून को वो डोनाल्ड ट्रम्प से मुलाकात करेंगे। ट्रम्प के यूएस प्रेसिडेंट बनने के बाद मोदी की उनसे ये पहली मुलाकात होगी। इस दौरान दोनों नेता कई अहम मुद्दों पर बातचीत कर सकते हैं। मोदी का तीन साल में यह चौथा अमेरिकी दौरा होगा।
27 जून को मोदी नीदरलैंड्स पहुंचेंगे और यहां के लीडर्स से मुलाकात करेंगे।
ट्रम्प से इन पांच मुद्दों पर बातचीत मुमकिन
1. टेररिज्म के खिलाफ जंग।
2. इकोनॉमिक ग्रोथ और रिफॉर्म्स को बढ़ावा देना।
3. इंडो-पैसिफिक रीजन में डिफेंस पार्टनरशिप को मजबूत करना।
4. H1B वीजा
5. पेरिस क्लाइमेट डील
ट्रम्प से क्यों अहम है मुलाकात?
अमेरिका हाल ही में पेरिस क्लाइमेट डील से हट गया। ट्रम्प ने कहा था कि डील से 2025 तक अमेरिका में 27 लाख नौकरियां चली जाएंगी। नौकरियां बचाने के लिए हमें इस समझौते से हटना होगा। ये भी आरोप लगाया कि पेरिस डील में भारत और चीन जैसे पॉल्यूटेड देशों के लिए कोई खास सख्ती नहीं की गई है।
एच-1बी को लेकर भी ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने सख्ती की है। भारत ने इस पर चिंता जताई थी।
ट्रम्प-मोदी की मीटिंग में डिफेंस को-ऑपरेशन, आतंकवाद के अलावा साउथ एशिया, न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप्स (एनएसजी‌‌) में भारत की मेंबरशिप जैसे कई दूसरे मुद्दों पर भी चर्चा हो सकती है। फॉसिल फ्यूल पर भी दोनों देश बातचीत कर सकते हैं।
बता दें कि ट्रम्प एक्सपोर्ट बढ़ाना चाहते हैं। उनका मानना है कि विदेशी कंपनियां अमेरिका में इन्वेस्टमेंट करें और नौकरी में भी अमेरिकियों को तरजीह दें।
दोनों नेताओं ने तीन पर फोन पर बात की
अभी तक ट्रम्प और मोदी के बीच तीन बार फोन पर बातचीत हुई है। मार्च में उन्होंने (ट्रम्प) उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा राज्यों में बीजेपी की जीत के बाद मोदी से फोन
पर बात की थी और बधाई दी थी।
ट्रम्प ने शपथ लेने के चार दिन बाद 24 जनवरी को मोदी को फोन किया था। तब दोनों नेताओं ने एक-दूसरे को अपने-अपने देश आने का न्योता भी दिया था।
वहीं, 9 नवंबर 2016 को ट्रम्प के प्रेसिडेंट चुने जाने के बाद मोदी ने फोन करके उन्हें बधाई दी थी।
मोदी और ओबामा आठ बार मिले थे
मोदी और बराक ओबामा के बीच आठ मुलाकातें हुई थीं। इस दौरान मोदी ने 3 बार अमेरिका का दौरा किया था। आखिरी बार मोदी जून 2016 में अमेरिका गए थे।
वहीं, अमेरिका के सलाहकार लेफ्टिनेंट जनरल एचआर मैकमास्टर अप्रैल में भारत के दौरे पर आए थे। तब उन्होंने नेशनल सिक्युरिटी एडवाइजर अजीत डोभाल से मुलाकात की थी। वहीं, मैकमास्टर सुषमा स्वराज और मोदी से भी मिले थे।
फरवरी में मोदी से मिला था भारतीयों का डेलिगेशन
अंग्रेजी अखबार ‘द हिंदू’ ने ह्यूस्टन में मोदी के प्रोग्राम के बारे में रिपोर्ट पब्लिश की थी। इस रिपोर्ट ने नई दिल्ली और वॉशिंगटन में मौजूद सूत्रों के हवाले से कहा है कि मोदी यूएस विजिट के दौरान टेक्सास के ह्यूस्टन शहर भी जा सकते हैं।
फरवरी में इंडियन कम्युनिटी का एक डेलिगेशन दिल्ली में मोदी से मिला था। इसने मोदी से अपील की थी कि वो ह्यूस्टन आएं और इंडियन डायस्पोरा के प्रोग्राम में स्पीच दें। टेक्सास में करीब ढाई लाख इंडियन अमेरिकी रहते हैं।

comment closed