Gwalior 

बेडरूम में इस हाल में पड़ी थी पुलिस अफसर की लाश, प्यून से कही थी ये बात

ग्वालियर.मुरैना के सबलगढ़ में SDOP हेमंत सिंह सिसौदिया ने सर्विस रिवाल्वर से खुद को गोली मार ली। गोली की आवाज सुन सरकारी आवास पर तैनात कर्मचारी अंदर पहुंचा तो कमरे में SDOP सिसौदिया खून से लथपथ मिले। सूचना मिलते ही पुलिस टीम मौके पर पहुंची, प्रारंभिक छानबीन के बाद मर्ग कायम किया और बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए भेजी गई। मामले की छानबीन करने मुरैना SP आदित्य प्रताप सिंह भी मौके पर पहुंचे।

मुरैना के सबलगढ़ में तैनात SDOP हेमंत सिंह सिसौदिया ने रविवार दोपहर गोली मारकर आत्महत्या कर ली। उनके सुसाइड की खबर मिलते ही पुलिस अफसरों में हड़कंप मच गया। SDOP सिसौदिया बीते 2 साल से सबलगढ़ में SDOP थे, और सरकारी आवास में रहते थे।
– गुना के मूल निवासी सिसौदिया की फैमिली होम टाउन में ही रहती है। सरकारी आवास पर अकेले ही थे। सुबह आवास पर तैनात घरेलू कर्मचारी घर गए तब तक सब ठीकठाक था। उनके साथ 6 साल से रह रहे सागर निवासी नंदू ने बताया कि साहब ने नहाने जाने के लिए कहा था तो वह बाहर चला गया।
– थोड़ी देर बाद अचानक गोली चलने की आवाज आई। बंगले के बाहर तैनात कर्मचारी दौड़कर आया तो कमरे में SDOP सिसौदिया की खून से लथपथ बॉडी बेड पर मिली। कर्मचारी ने लोकल पुलिस स्टेशन को सूचना दी तो हड़कंप मच गया। तत्काल पुलिस टीम मौके पर पहुंची, प्रारंभिक छानबीन के बाद मर्ग कायम किया और इसके बाद SDOP की बॉडी को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा।
– इसी दौरान मुरैना से SP आदित्य प्रताप सिंह भी सबलगढ़ पहुंचे। उनके पीछे ही DIG और IG चंबल रेज भी सबलगढ़ पहुंच गए। सीनियर ऑफिसर्स ने जांच कर रहे अफसरों से मामले की जानकारी ली और खुद भी मौके का मुआयना किया।
– सिसौदिया ने आत्महत्या क्यों की इसकी वजह अब तक नहीं जानी जा सकी है। पुलिस तलाश कर रही है कि उन्होंने कोई सुसाइड नोट छोड़ा है या नहीं, उनके सेलफोन और कॉल डिटेल भी खंगाले जा रहे हैं। मुरैना SP आदित्य प्रताप सिंह ने आशंका जताई कि सिसौदिया के परिवार में प्रॉपर्टी को लेकर विवाद थे, जो सुसाइड की वजह हो सकती है। साथ ही उन्हें ब्लड शुगर व हायपर टेंशन की भी शिकायत थी।
रिटायरमेंट को बचा था एक साल
– SDOP सिसोदिया बीते दो साल से सबलगढ़ में पदस्थ थे और सबलगढ़ में SDOP के लिए बने सरकारी आवास में रहते थे। 2 महीने पहले उनका ट्रांसफर चंबल DIG के ऑफिस में हुआ था, लेकिनअप्रेल 2018 में रिटायरमेंट होने के आधार पर कोर्ट से स्टे लेकर सबलगढ़ में ही बने हुए थे।
– हाल ही में रिटायरमेंट के हवाले से ही उनके अनुरोध पर DG ने ट्रांसफर गुना कर दिया था। SDOP सिसौदिया 1-2 दिन बाद ही DSP अजाक का चार्ज लेने गुना रिलीव होने वाले थे।
गुना का मोरखा उनका पैतृक गांव
– SDOP हेमंत सिसौदिया गुना जिले में बमौरी तहसील के मोरखा गांव के रहने वाले थे। उनका एक बेटा अजय भोपाल में पढ़ रहा है, और दूसरा बेटा विजय, गांव में रहता है। गांव के मकान व जमीन के बंटवारे को लेकर सिसौदिया का अपने भाईयों से विवाद चल रहा था।

Related posts