Thursday, February 22, 2024
Homeउरई समाचारगांव-गांव से एकत्रित किया जाएगा कूड़ा, बनेगी खाद

गांव-गांव से एकत्रित किया जाएगा कूड़ा, बनेगी खाद

उरई – गांव-गांव से एकत्रित किया जाएगा कूड़ा, बनेगी खाद ग्रामीणों को तीस रुपये मासिक शुल्क का करना होगा भुगतान गांवों में साफ सफाई का वातावरण रहे और कूड़े कचरे का निस्तारण कर उससे खाद आदि बनाई जा सके इसके लिए शहरों की तरह अब ग्राम पंचायतों में व्यवस्था बनाई गई है। कहीं-कहीं पर यह व्यवस्था सुचारू रूप से चल भी रही है। जिले में फिलहाल दस ग्राम पंचायतों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप” में कूड़ा एकत्रित करने का कार्य चल रहा है। इस वर्ष और अधिक ग्राम पंचायतों में इसकी शुरुआत किए जाने की तैयारी की जा रही है। • स्वच्छ भारत मिशन की कवायद को सफल बनाने के लिए हर प्रयास अमल में लाए जा रहे हैं। साथ ही लोगों को साफ सफाई से रहने के लिए प्रेरित भी किया जा रहा है। ज जिससे कि गांवों का वातावरण भी बाई साफ सुथरा नजर आए। जनपद को पहले ही ओडीएफ किया जा चुका है जिससे पूरी तरह से न सही लेकिन काफी हद तक खुले में शौच के लिए जाने वालों की संख्या में कमी आई है। अब इस मिशन को आगे बढ़ाते हुए पंचायती राज विभाग ने गांवों में कूड़ा कचरा घर-घर से एकत्रित करने की कार्ययोजना तैयार की है। पायलट प्रोजेक्ट के रूप में वित्तीय वर्ष 2022 23 के दस गांवों में इसकी शुरूआत की जा चुकी है। इसमें ग्रामीणों के ऊपर कोई बोझ भी नहीं पड़ेगा। कुल तीस रुपये मासिक देने होंगे। साथ ही आर. सा. सन्टर-टरारण वागत कूड़ा निस्तारण के लिए ग्राम ऐरी रमपुरा में बनाया गया आरआरसी सेंटर जागरण एकत्रित किए गए कूड़े का सदुपयोग कर उसको काम में लाया जा सकेगा। इसके लिए सेंटर भी बनाए गए हैं। जहां पर कूड़े को अलग किया जाएगा। वित्तीय वर्ष 2023-24 में 331 ग्राम पंचायतों में इस व्यवस्था की शुरूआत किए जाने की तैयारी हो रही है। आरआरसी सेंटर में भेजा जाएगा कूड़ा कूड़े के निस्तारण के लिए आरआरसी सेंटर बनाए गए हैं। जहां पर कूड़े को अलग-अलग किया गांवों का वातावरण स्वच्छ रखने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। दस गांवों में पायलट प्रोजेक्ट चल रहा है। अब इस वितीय वर्ष में इस योजना को विस्तास्ति रूप देने की कवायद की जा रही है। राम अयोध्या प्रसाद, जिला पंचायती राज अधिकारी इन दस गांवों में एकत्रित किया जा रहा कूड़ा जिले में डकोर, आटा, मरगायों, पिरौना, कुठौंद, अजीतापुर, सिरसाकलार, खकसीस, जगम्मनपुर, टीहर में घर-घर से कूड़ा एकत्रित किया जा रहा है। कूड़ा एकत्रीकरण के लिए ई-रिक्शा की व्यवस्था की गई है। जाएगा। प्लास्टिक अलग की जाएगी और अन्य कूड़े से जैविक खाद आदि बनाने का कार्य किया जाएगा। फिलहाल कई जगह आरआरसी सेंटर बन गए हैं। निर्धारित स्थान के अलावा कूड़ा फेंकने पर होगी सख्ती ग्रामीणों से कहा गया है कि वे कूड़ा कचरा आने वाली गाड़ियों में डालें। इधर उधर कूड़ा नहीं डालना है। गांव में जहां कूड़ा फेंकने का स्थान निर्धारित है वहां कूड़ा फेंके।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments