अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से सीएनएन ने किया दावा


दो अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से सीएनएन ने दावा किया कि बाइडन प्रशासन इसे लेकर चिंतित था कि रूस सामरिक या युद्धक परमाणु हथियारों का इस्तेमाल कर सकता है। अमेरिका ने भारत समेत अन्य गुटनिरपेक्ष देशों से मदद मांगी और रूस को ऐसे हमलों के प्रति हतोत्साहित करने का आग्रह किया। वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी ने कहा, पीएम मोदी की रूसी राष्ट्रपति से पीएम ने पुतिन से कहा था, यह युद्ध का दौर नहीं पिछले साल उज्बेकिस्तान में हुए शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के दौरान पीएम मोदी व पुतिन की मुलाकात काफी चर्चाओं में रही थी। इस दौरान मोदी ने पुतिन से कहा था, यह युद्ध का दौर नहीं। बातचीत व उनके सार्वजनिक बयानों ने इस संकट से निपटने में मदद की। मुझे लगता है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय की चिंता, खासकर रूस के करीबी व वैश्विक दक्षिण के प्रभावशाली देशों की चिंताओं ने खतरे को टालने में मदद की और यह बताया कि इसके परिणाम क्या हो सकते हैं। एजेंसी

By Snews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *